Category: Erectile dysfunction

शल्य चिकित्सा के बिना, घर पर सीधा दोष के उपचार के लिए उपयोगी सलाह और सिफारिशें!

क्या आध्यात्मिक और शारीरिक स्वास्थ्य के लिए तंत्र का अभ्यास जरुरी है?

तंत्र, जिसका मतलब है “बुनाई” की अवधारणा , उसका तात्पर्य आपकी इंद्रियों, भावनाओं और ऊर्जा के प्रति जागरूकता बढ़ाकर आपके शरीर, दिमाग और आत्मा को विस्तारित करने से है। मेडिटेशन से अपने आप को जागरूक रखना मौलिक तत्व होता है; तंत्र के अंतर्गत आपकी यौन ऊर्जा भी आती है और जिसके कारण खुशी महसूस करने की आपकी क्षमता बढ़ जाती है। तंत्र हजारों...

कमजोर लिंगोत्थान: कारण क्या हैं, क्या करना है और इस अवस्था के इलाज के उपाय

लिंगोत्थान संबंधी दुष्क्रिया एक गंभीर मुद्दा है, हालांकि कई पुरुष इसे आपात संकट को भांप कर जागरूक हो जाने के लिए एक संकेत के रूप में नहीं लेते हैं। यौन संबंध रखने में असमर्थता को अक्सर बुढ़ापे, थकान या तनाव से जोड़ा जाता है; हालांकि ज्यादातर मामलों में लिंगोत्थान संबंधी दुष्क्रिया का कारण पूरी तरह से जैविक होता है। इससे...

पुरुष रजोनिवृत्ति। यह क्या होती है और इससे कैसे निपटें?

  रजोनिवृत्ति का अर्थ है उम्र और आंतरिक बदलावों के कारण मानव प्रजनन प्रणाली का धीरे-धीरे क्षय होना। सामान्य तौर पर माना जाता है कि रजोनिवृत्ति केवल औरतों में होती है। लेकिन यह सही नहीं है। पुरुषों को भी ऐसे ही प्रभावों का सामना करना पड़ सकता है। डॉक्टर कई बार इस पीरियड को एंड्रोपौज़ (महिलाओं के मीनोपौज़ की तरह)...

क्या इरेक्टाइल डिसफंक्शन (स्तंभन-दोष) संभावी हृदय रोगों का संकेत है?

कई लोग इरेक्टाइल डिसफंक्शन (खड़े होने में समस्याएँ या स्तंभन-दोष) को एक अलग घटना के रूप में देखते हैं। सच यह है कि बार-बार स्तंभन दोष होना किसी बड़ी समस्या का संकेत हो सकता है। कोई ऐसी समस्या, जो खतरनाक और जानलेवा भी हो सकती है। यह समस्या है हृदय रोग।

इरेक्टाइल डिसफंक्शन। लक्षण और इलाज

जब कोई पुरुष लिंग खड़ा करने और उसे खड़ा रखने में असमर्थ होता है तो इसे इरेक्टाइल डिसफंक्शन कहते हैं। आम तौर पर यह अस्थायी समस्या होती है लेकिन ऐसे दीर्घकालिक मामले भी होते हैं जिससे कई पुरुष क्वालिटी सेक्स जीवन नहीं जी पाते। परिचय अधिकतर पुरुषों को अपने जीवन में कभी-न-कभी इस समस्या का सामना करना पड़ता है। कई...

वीर्य क्या है और वीर्य कैसे बनता है?

मर्दों में लिंग के खड़े होने के समय और पानी छूटने के समय जो तरल पदार्थ निकलता है उसे वीर्य कहते हैं. यह प्रोस्टेट ग्रंथि एवं अन्य प्रजनन अंगों से शुक्राणुओं और तरल पदार्थों के संयोग से बनता है. आमतौर पर वीर्य गाढ़ा सफेद होता है, यद्यपि विभिन्न कारणों के चलते इसके रंग एवं गुणवत्ता में बदलाव भी आ जाते...