चमक की संवेदनशीलता को कम करने के 15 तरीके

About Dr. Nagender Kumar

Urologist, Sex counselor

लिंग के मुंड की उच्च संवेदनशीलता के कारण बिस्तर में विभिन्न समस्याएँ हो सकती हैं। मुख्य समस्या है समय पूर्व स्खलन। अपने यौन जीवन को बेहतर बनाने के लिए, आपको यह जानना ज़रूरी है कि लिंग के मुंड की संवेदनशीलता को किस तरह कम किया जाए। इसे विभिन्न तरीकों से घर पर करना संभव है।

संभावित यौन विकारों के विभिन्न लक्षण

पैदायशी अतिसंवेदनशीलता उस स्थिति से फर्क होती है जो बीमारी से उत्पन्न होती है। ऐसे कुछ संकेत हैं जिनसे दोनों में फर्क पहचाना जा सकता है।

लिंग के मुंड की पैदायशी अतिसंवेदनशीलता के संकेत

  • युवावस्था से ही समय पूर्व स्खलन
  • संभोग की अवधि का हमेशा एक समान बने रहना, वह बढ़ती नहीं है।
  • विशेष दवाओं, स्नेहक या एनस्थेटिक दवाओं के साथ कंडोम का इस्तेमाल करने पर यौन संपर्क की अवधि बढ़ना।
  • शराब के उपयोग के बाद यौन अवधि बढ़ना।

लिंग के मुंड की अतिसंवेदनशीलता बीमारी के बाद भी उत्पन्न हो सकती है

  • उस बीमारी से पहले समय पूर्व स्खलन का न होना।
  • बार-बार संभोग करने पर यौन की अवधि बढ़ना।
  • यौन संपर्क और ऑर्गाज़्म के दौरान दर्दनाक संवेदना का अहसास होना। संभोग से कोई प्रिय अहसास न होना।
  • एनस्थेटिक दवाओं वाले कंडोम या स्नेहक के उपयोग से भी यौन अवधि पर कोई फर्क न पड़ना।
  • शराब के उपयोग से संभोग की अवधि पर कोई फर्क न पड़ना।

लिंग के मुंड की अतिसंवेदनशीलता के क्या कारण हैं

लिंग की अतिसंवेदनशीलता कई कारणों से हो सकती है:

  • अनुवांशिक कारणों से,
  • फिमोसिस के कारण,
  • प्रोस्टेटाइटिस के कारण, जो लिंग की तंत्रिकाओं के सिरों को प्रभावित करता है,
  • बोलेनोपोस्थाइटिस के कारण
  • बहुत लंबे समय तक यौन संपर्क न होने के कारण,
  • मनोवैज्ञानिक समस्याओं के कारण,
  • हार्मोन की विफलता के कारण,
  • प्रजनन प्रणाली की पुरानी बीमारियों के कारण,
  • रीढ़ की हड्डी में चोट के कारण।

15 विधियाँ, जो आपको इस समस्या से निपटने में मदद कर सकती हैं

  • कोशिश करके अपनी साथिन के शरीर से चिपकें नहीं।
  • स्प्रे का उपयोग कीजिए
  • क्रीम और लेप का प्रयोग कीजिए
  • मर्दाने निरोधक उपायों का इस्तेमाल कीजिए
  • लिंग के ऊपर खोल पहनिए
  • संभोग के समय सही पोज़ीशन अपनाएँ
  • सर्जरी करवाएँ
  • लय खुद तय कीजिए
  • सही तरह से साँस लेने पर फोकस करें
  • ध्यान हटाने के लिए तीन उपाय कीजिए:
  • तथाकथित केगल व्यायाम कीजिए
  • अपनी प्रक्रियाओं को पुनः प्रोग्राम कीजिए
  • सुनहरा नियम यह है कि आप जितना अधिक संभोग करेंगे उतना ही अच्छा होगा!
  • रुककर इंतज़ार करने की तकनीक का प्रयोग कीजिए
  • दवाएँ

हमारे पाठकों के लिए फास्ट शिपिंग ऑफर:

  • पहला-दूसरा हफ्ता:
  • आपका खड़ापन लंबे समय तक चलेगा और उसकी सख्ती भी बढ़ जाएगी लिंग की संवेदना दो गुना बढ़ जाएगी पहले बदलाव लिंग की लंबाई 1.5 सेमी बढ़ जाने के साथ दिखेंगे1
  • दूसरा-तीसरा हफ़्ता:
  • आपका लिंग बड़ा दिखने लगेगा और उसका शेप भी सटीक हो जाएगा संभोग की अवधि 70% बढ़ जाएगी!2
  • चौथा हफ्ता और इसके बाद:
  • आपका लिंग 4 सेमी लंबा हो जाएगा! सेक्स की गुणवत्ता काफी अच्छी हो जाएगी और संभोग में चरम सुख जल्दी मिलेगा तथा 5-7 मिनट तक चलेगा!

पुरुष नहीं जानते हैं

आप दोनों के शरीरों के बहुत नज़दीकी संपर्क में होने पर स्खलन बहुत जल्दी हो सकता है। अगर आप लिंग के मुंड की अतिसंवेदनशीलता को बढ़ाना चाहते हैं, तो यह नियम याद रखिए।

अपने सीने और पेट से अपने साथी के शरीर को न छुएँ। संभोग के लिए उचित पोजडीशन चुनिए, जैसे ‘पीछे से’, ‘कुत्ते की शैली में’ या ‘ऊपर महिला’ वाली पोज़ीशन। अपनी साथिन से अपने ऊपर सीधे रहने के लिए कहिए, वह आपके ऊपर झुके नहीं।

अगर आप अपने कपड़े पूरी तरह न उतारें तो आपका नियंत्रण बेहतर होगा। अपनी साथिन से भी कुछ कपड़े पहने रहने का अनुरोध कीजिए, इससे आपस का स्पर्श कम से कम हो जाएगा।

10% लीडोकेन वाले स्प्रे का उपयोग कीजिए। लीडोकेन एक एनस्थेटिक दवा होती है। संभोग से लगभग 15 मिनट पहले इसे लिंग पर स्प्रे कर लीजिए। औसत खुराक है 2-3 बार। इसका असर 30 मिनट से एक घंटे तक रहता है। जब आप इसे लिंग पर छिड़कते हैं तो उसके ऊतकों की संवेदनशीलता कम हो जाती है और संभोग की अवधि बढ़ जाती है।

इसके उपयोग का तरीका। एनस्थेटिक दवा के पूरी तरह से अवशोषित होने तक इंतज़ार कीजिए। इसके बाद बची हुई दवा को पानी से धो दीजिए। बची हुई दवा को पूरी तरह से धोने के लिए शॉवर लेना बेहतर होगा, नहीं तो लीडोकेन से आपकी साथिन को तकलीफ़ या दर्द हो सकता है।

ये भी स्प्रे की तरह ही काम करती हैं, पर उनमें अनस्थेटिक दवा कम मात्रा में होती है।

उपयोग का तरीका। क्रीम और लेप को संभोग से पहले से लगा लीजिए। यौन संपर्क से पहले उसे धो दीजिए, जिससे आपके पार्टनर को कोई तकलीफ़ या दर्द न हो। इसके असर का समय 15 मिनट से एक घंटे के बीच में कुछ भी हो सकता है

नुकसान। इस तरह के उत्पादों से योनि में जलन या असुविधा हो सकती है, और इसका अधिक प्रयोग करने पर आपकी संवेदनशीलता बिलकुल खत्म भी हो सकती है। इसके अलावा, एलर्जी भी हो सकती है। क्रीम और लेप का इस्तेमाल कंडोम के साथ नहीं करना चाहिए, क्योंकि उसमें मौजूद चिकनाई लेटेक्स को नष्ट कर देती है।

अगर आप सोच रहे हैं कि अपने लिंग के मुंड को किस तरह कम संवेदनशील बनाया जाए, तो अन्य उत्पादों के बारे में पढ़िए जो इसमें आपकी मदद कर सकते हैं।

  • यह बहुत आसान है: अधिक मोटे कंडोम का इस्तेमाल कीजिए जिससे स्खलन में देरी हो। वे आपकी संवेदनशीलता को कम कर देते हैं, और आप देर तक संभोग कर सकते हैं।
  • दूसरा विकल्प है एनस्थेटिक कंडोम का प्रयोग।

एनस्थेटिक दवाओं से लिंग की संवेदनशीलता कम हो जाती है, और संभोग की अवधि लगभग दुगुनी हो जाती है। कुछ कंडोम में दोहरा स्नेहक होता है: उनमें अंदर की ओर एनस्थेटिक दवा होती है और बाहर की ओर आपकी महिला साथिन को उत्तेजित करने के लिए स्नेहक की पर्त होती है।

हमारी सूचि में अगला नंबर है लिंग के मुंड की संवेदनशीलता को कम करने के लिए लिंग का विशेष खोल।

यहाँ पर हम बताते हैं कि यह कैसे काम करता है। कंडोम की तरह यह उत्पाद भी लेटेक्स का बना होता है और लिंग के ऊपर पहना जाता है।

इसके कई काम होते हैं:

  • यह लिंग को मोटा और लंबा बनाता है।
  • मर्दाने अंग की संवेदनशीलता को कम करता है।

ये खोल विभिन्न आकार के होते हैं। हमेशा बहुत अधिक स्नेहक का प्रयोग करें, जिससे आपकी साथिन को सुविधा रहे।

लिंग के मुंड की संवेदनशीलता और उससे संबंधित असुविधा से निपटने के लिए विभिन्न साधनों के अलावा विभिन्न तकनीक भी होती हैं।

ऐसी पोज़ीशन अपनाएँ जिससे आपके शरीर को अधिक से अधिक आराम मिले। उदाहरण के लिए अपनी पीठ के बल लेटिए और अपनी महिला साथिन से अपने ऊपर बैठने के लिए कहिए (काउगर्ल)।

क्लासिक पोज़ीशन, जब आप ऊपर हों और आपकी महिला साथिन का चेहरा आपकी ओर हो, ज़रूरी नहीं कि यह सबसे बेहतर विकल्प हो। इस पोज़ीशन में शरीर का आपसी संपर्क बढ़ जाता है, जिससे आपकी उत्तेजना बढ़ जाएगी। इसके अलावा आपके नितंब, टाँगें, और श्रोणि में तनाव होता है। यह पोज़ीशन तब सबसे बेहतर होती है, जब आप जल्द से जल्द स्खलन चाहते हों।

समयपूर्व स्खलन को रोकने के लिए यह एक मूल तरीका है। तीन तरह की सर्जीकल प्रक्रियाएँ होती हैं:

  • खतना (लिंग की ऊपरी त्वचा को हटाना),
  • फ्रेनुलोटोमी (लिंग की बाह्य त्वचा के फ्रेनुलम को काटकर निकालना)
  • लिंग के मुंड की तंत्रिकाओं का निस्तेजन (कुछ तंत्रिकाओं के सिरों को हटाना)

पहली दो प्रक्रियाएँ बहुत लोकप्रिय हैं।

खतना निम्नलिखित मामलों में बेकार साबित हो सकता है:

  • मनोवैज्ञानिक विकार
  • लंबी अवधि तक यौन संपर्क न होना
  • हार्मोन का बदलाव।

सर्जरी के बाद क्या किया जाए

सर्जरी के बाद कम से कम 14 दिनों तक यौन संबंधों की सलाह नहीं है।

त्वचा में सुधार आने पर आपका अंग अतिसंवेदनशील नहीं रहेगा।

यौन संपर्क की अवधि को बढ़ाने के लिए और भी असरदार उपाय हैं।

महिला को कमान अपने हाथ में मत लेने दीजिए, आप स्वयं लय तय कीजिए। संभोग की लय आप बनाइए और महिला उसका पालन करे।

आप अपने शरीर को किसी से भी बेहतर जानते हैं, और आप जानते हैं कि किस तरह की गतिविधियों से आप स्थिति पर बेहतर नियंत्रण रख पाएँगे।

ज़ोर से धकेलने के बजाय पेंडुलम, दोलन और गोलाकार गति बनाएँ।

अपनी साथिन से बात करें। उसे मालूम नहीं होगा कि किस तरह की गतिविधि आपको अच्छी लगेगी। कभी-कभी यह बेहतर है कि जब आपको स्खलन का क्षण करीब आता लगे तो अपनी साथिन से न हिलने के लिए कहें।

अधिकतर पुरुष भारी और तेज़ गति से साँस लेने की गलती करते हैं। आपकी साँस लेने की प्रक्रिया गहरी होनी चाहिए और सामान्य से 2-3 गुना धीमी होनी चाहिए, जैसे आप ध्यान लगा रहे हों।

सही ढंग से साँस कैसे ली जाए? साँस अंदर लें, थोड़ी देर रुकें और फिर धीमे से उसे बाहर निकाल दें। पूरे संभोग के दौरान समान रूप से साँस लें।

समय से पूर्व स्खलन अक्सर तब होता है जब आपका पूरा ध्यान संभोग और अपने लिंग पर होता है। स्खलन होने से रोकना बहुत मुश्किल हो जाता है।

अपने ध्यान को 3 तरह से विचलित कीजिए:

मानसिक तरीका। किसी भी अप्रासंगिक चीज़ के बारे में सोचने की कोशिश कीजिए। कुछ ऐसा जिसका आपके यौन संबंध के साथी और वर्तमान स्थिति से कोई लेना-देना न हो। जो आप कर रहे हैं उस पर ध्यान केंद्रित मत कीजिए।

दृश्य संबंधी तरीका। कमरे में किसी भी चीज़ को देखिए – अपने बिस्तर का किनारा, वॉलपेपर, बेडशीट वगैरह, वगैरह। पुरुष अक्सर अपनी खूबसूरत साथिन के शरीर को देखने की गलती करते हैं, और परिणामस्वरूप अपना नियंत्रण खो बैठते हैं।

स्पर्श संबंधी तरीका। अपनी साथिन से अपना कान काटने या चिकोटी काटने के लिए कहिए। इससे आपका ध्यान विचलित होगा, और उत्तेजना थोड़ी कम हो जाएगी।

इस विधि से आपकी प्यूबोकॉकसीजस माँसपेशी प्रशिक्षित होती है।

यह माँसपेशी गुदा और अंडकोष के बीच पेरीनियम में होती है। इस जगह पर अपना हाथ रखिए, माँसपेशी को ढूँढ लीजिए। इस माँसपेशी में तनाव पैदा करके आप पेशाब की धार में व्यवधान कर सकते हैं, या अपने लिंग को उछाल सकते हैं।

इस माँसपेशी को रोज़ाना प्रशिक्षित कीजिए।

लाभ। केगल व्यायाम से श्रोणि के अंगों में रक्त संचार बेहतर हो जाता है, जिससे आपका लिंग मज़बूती से और देर तक खड़ा रह सकता है। जिन पुरुषों को लिंग को देर तक खड़ा रखने में समस्या होती है, उन्हें भी इस व्यायाम की सलाह है।

संभोग के समय आम तौर पर अंडकोष उठ जाते हैं। अगर आप उन्हें शरीर से दूर खींचने की कोशिश करेंगे तो इससे आपका ध्यान विचलित होगा और स्खलन में देरी होगी। अपने अंडकोष को खींचने के लिए आप संभोग को रोक भी सकते हैं, और अंडकोष को खिंची हुई अवस्था में पकड़े रह सकते हैं, जब तक कि आपकी उत्तेजना कम न हो जाए।

याद रखिए आप जितना अधिक बार संभोग करेंगे, बिस्तर में आपका स्खलन उतना ही धीमा होगा, और आपका स्टैमिना (आत्मबल) उतना ही बढ़ेगा। संभोग की बारंबारता बढ़ने से अपने शरीर को नियंत्रित करने की आपकी क्षमता बेहतर हो जाएगी। आप अपनी उत्तेजना को नियंत्रित कर पाएँगे, आपके शरीर को संभोग की आदत पड़ जाएगी और वह अतिरिक्त प्रतिक्रिया नहीं देगा।

अगर आप हर रोज़ संभोग कर सकते हैं या दो दिन में एक बार, तो यह बहुत बेहतर है। अगर आपके पास प्रेमिका नहीं है तो आप खुद भी अभ्यास कर सकते हैं। साथ ही आप अपना स्टैमिना (आत्मबल) भी बढ़ा सकते हैं।

इस तकनीक का सार यह है कि स्खलन के बिना ‘उस स्थिति’ में देर तक बने रहना। जब आपका स्खलन होने वाला हो तो आप हमेशा रुक सकते हैं, और जब तक यह अहसास कम न हो जाए तब तक रुके रहिए।

जब भी आपको स्खलन का अहसास हो, रुक जाइए। अपने लिंग को निकाल लीजिए और इंतज़ार कीजिए। अपनी पीठ पर लेट कर साँस लीजिए। इसके अलावा आप अपनी या अपने साथिन की पोज़ीशन भी बदल सकते हैं। उत्तेजना के थमने तक ज़ोर मत लगाइए। शुरू में आपको बहुत बार विराम करना होगा, पर 15-20 मिनट बाद आप स्थिति पर पूर्ण नियंत्रण कर पाएँगे। यह नियम हर व्यक्ति के लिए उचित है।

लिंग के मुंड की अतिसंवेदनशीलता के अलावा, समय पूर्व स्खलन के और भी कारण हो सकते हैं। टेस्टोस्टेरोन से संभोग की गुणवत्ता और अवधि पर बहुत असर पड़ता है। यौन स्टैमिना (आत्मबल) के लिए ज़िम्मेदार, टेस्टोस्टेरोन का स्तर बढ़ाने पर आपको बहुत बढ़िया परिणाम मिल सकते हैं।

बेशक, इसके लिए बहुत तरह की दवाएँ उपलब्ध हैं, पर ऐसी दवाओं का चयन सोच-समझ कर कीजिए।

ऐसे उत्पादों का प्रयोग मत कीजिए जिनमें यौन हार्मोन का सिंथेटिक अनुरूप होता हो। उदाहरण के लिए आहार पूरक Hammer of Thor का प्रयोग कर सकते हैं।

हार्मोन दवाओं से विपरीत, इसके लिए डॉक्टर के पर्चे की आवश्यकता नहीं होती है। पर, फिर भी डॉक्टर से अपने उपचार के बारे में चर्चा करना बेहतर होगा।

बेहतर परिणामों के लिए इस सूचि के विभिन्न उपायों को मिलाकर प्रयोग कीजिए!