एक्सर्साइज़ करके अपना सेक्स प्रदर्शन कैसे बढ़ाएँ?

About Dr. Nagender Kumar

Urologist, Sex counselor

मर्दानगी और टेस्टोस्टेरोन स्तर बढ़ाने के लिए सबसे असरदार एक्सर्साइज़।

“अंतरंग” एक्सर्साइज़। हमें इनकी जरूरत क्यों है?

एक्सर्साइज़ के इस सेट को करके आप निम्नलिखित समस्याएँ हल कर सकते हैं:

  1. खड़ेपन में कमजोरी।
  2. सुबह खड़ा न होना (एक्सर्साइज़ के साथ दवाएँ भी लेनी होंगी)।
  3. कम कामेच्छा।
  4. टेस्टोस्टेरोन स्तर में कमी।
  5. असंतुष्ट और नाखुश पार्टनर।
  6. पति-पत्नी के बीच संभोग कम बार होना।
  7. खड़ा होने के पहले बहुत देर तक सहलाने की जरूरत पड़ना।

कार्यविधि पर टिप्पणियाँ

  1. एक्सर्साइज़ सुबह करना सबसे अच्छा होता है जब शरीर रिलैक्स और लिंग खड़ा होता है।
  2. एक्सर्साइज़ के सेट धीरे-धीरे बढ़ाएँ।
  3. अपनी प्रगति मापने के लिए समय-समय पर सेट की गिनती नोट करते रहें।
  4. अपने शरीर की आवाज़ सुनें। यदि आपको दर्द वगैरह हो तो ट्रेनिंग की तीव्रता घटा दें।
  5. यदि आपका सुबह खड़ा नहीं होता हो तो एक्सर्साइज़ करने के पहले मेडिकल ट्रीटमेंट लें।

 

ट्रेनिंग की तकनीक

अपने गुदाद्वार और अंडकोषों के बीच की मसल को भींच कर उंगली की मसल से ढूंढें। यह प्यूबोकोसीजियस मसल है जिसे “मसल ऑफ लव” या “प्यार की मसल” भी कहते हैं। प्रोस्ट्रेट ग्रंथि की परिस्थिति इसी पर निर्भर करती है जो मर्दानगी पर सकारात्मक प्रभाव डालती है।

 

अपनी “प्यार की मसल” को कैसे ट्रेन करें?

  1. मसल को जितनी ज़ोर से हो सके भींचें।
  2. इसे 3 सेकंड तक भींचें रहें।
  3. रिलैक्स करें।

कुछ दिनों बाद मसल को हर बार 10 सेकंड तक भींचे रखने की कोशिश करें। धीरे-धीरे सेट बढ़ाते जाएँ और एक बार में 50 बार तक करने की कोशिश करें।

हमारे पाठकों के लिए फास्ट शिपिंग ऑफर:

  • पहला-दूसरा हफ्ता:
  • आपका खड़ापन लंबे समय तक चलेगा और उसकी सख्ती भी बढ़ जाएगी लिंग की संवेदना दो गुना बढ़ जाएगी पहले बदलाव लिंग की लंबाई 1.5 सेमी बढ़ जाने के साथ दिखेंगे1
  • दूसरा-तीसरा हफ़्ता:
  • आपका लिंग बड़ा दिखने लगेगा और उसका शेप भी सटीक हो जाएगा संभोग की अवधि 70% बढ़ जाएगी!2
  • चौथा हफ्ता और इसके बाद:
  • आपका लिंग 4 सेमी लंबा हो जाएगा! सेक्स की गुणवत्ता काफी अच्छी हो जाएगी और संभोग में चरम सुख जल्दी मिलेगा तथा 5-7 मिनट तक चलेगा!

मर्दानगी बढ़ाने के लिए अन्य एक्सर्साइज़।

 

1. “अँग्रेजी अंक 8 बनाएँ”

अपनी श्रोणि को गोलाकार अँग्रेजी अंग 8 के आकार में घुमाएँ; पहले बाईं ओर घूमें, फिर दाईं ओर। इसे जितनी बार हो सके दोहराएँ, लेकिन तीव्रता धीरे-धीरे बढ़ाएँ।

यह एक्सर्साइज़ श्रोणि में रक्त प्रवाह बढ़ा देती है।

 

2. नितंबों पर चलें

इस एक्सर्साइज़ की उत्पत्ति योग में है और मूत्र-रोग विशेषज्ञ भी इसे करने की सलाह देते हैं। अपने नितंबों पर बैठ जाएँ और पैर आगे फैला लें। हाथों को किसी भी पोजीशन में रख सकते हैं। अपने नितंबों के बल 2 मीटर आगे चलने की कोशिश करें, और फिर नितंबों के ही बल वापस आएँ। हर बार एक्सर्साइज़ करते समय जितनी दूर हो सके चलने की कोशिश करें।

 

3. लेटी अवस्था से अपने पैर उठाएँ

फर्श पर ऐसी जगह लेट जाएँ जहां आपका सर दीवार से 50 सेमी दूर हो। पैरों को ऊपर उठाकर धीरे-धीरे दीवार की ओर नीचे करें। पैरों को इसी पोजीशन में कम से कम 10-15 सेकंड के लिए रोके रखें।

 

4. श्रोणि को ऊपर उठाना और नीचे करना

पीठ के बल लेट जाएँ और अपने हाथ शरीर के साथ समानान्तर रखें। अपनी श्रोणि को फर्श से उठा लें। इस पोजीशन में 2-4 सेकंड तक रुकें। अब शुरुआती अवस्था में वापस आ जाएँ। 10-15 बार दोहराएँ और धीरे-धीरे तीव्रता बढ़ाते जाएँ।

 

5. एयर-बाइसिकल

पीठ के बल लेट जाएँ और घुटने मोड़ लें। अपने पैरों को गोलाकार अवस्था में ऐसे घुमाएँ मानो साइकल चला रहे हों। इस एक्सर्साइज़ से आपको स्तंभन की समस्याएँ नहीं होंगी और पेट की चर्बी भी कम होगी।

 

6. सर्कल

पेट के बल लेट जाएँ, घुटने मोड़ लें और अँगूठों को अपने सर की ओर कर लें। अपने हाथों को पीछे की ओर खींच कर एढ़ियाँ पकड़ लें। अपनी पीठ को जितना हो सके मोड़कर इसी पोजीशन में 30 सेकंड तक रुकें।

 

7. स्क्वैट्स

इस एक्सर्साइज़ को सुबह उठने के तुरंत बाद करना ज़्यादा फायदेमंद होता है। अपने पैरों को कंधे के बराबर दूरी पर फैलाकर खड़े हो जाएँ और पीठ सीधी कर लें। अब अपने हाथों को आगे फैलाकर जितनी गहराई तक हो सके स्क्वैट करें। शुरुआत में 14-15 स्क्वैट प्रति सेट करें। समय के साथ सेट बढ़ते जाएँ।

कार्डियो एक्सर्साइज़

हर उस शख्स को कार्डियो एक्सर्साइज़ करनी चाहिए जो हमेशा शक्तिशाली और सक्रिय बने रहना चाहता है। इनसे हृदय का कार्यकलाप अच्छा होता है, रक्त प्रवाह सामान्य होता है और सेक्स प्रदर्शन अच्छा होता है।

ये रहीं कुछ सबसे बढ़िया और लोकप्रिय कार्डियो एक्सर्साइज़

  1. हफ्ते में 2-3 बार 30-40 मिनट के जॉगिंग।
  2. पूल में स्विमिंग करना (स्टैमिना ट्रेनिंग के लिए सबसे बढ़िया)।
  3. मार्शल आर्ट्स। बाहर ट्रेनिंग करना सबसे बढ़िया होता है।
  4. पुश-अप, हॉरिजॉन्टल बार पर एक्सर्साइज़।

एक्सर्साइज़ का असर कैसे बढ़ाएँ?

निम्नलिखित तकनीकों से आप नतीजे ज़्यादा तेजी से पा सकेंगे।

  1. मर्दानगी बढ़ाने वाले प्रोडक्ट इस्तेमाल करें (Xtra Man क्रीम, Hammer of Thor कैप्सूल)। ये पूरी तरह प्राकृतिक और स्वास्थ्य के लिए सुरक्षित हैं। इनका असर बहुत जबर्दस्त होता है। उत्पादकों के अनुसार इन दवाओं से स्तंभन-दोष के गंभीर केस भी कुछ ही दिनों में ठीक हो जाते हैं। यदि आप इन्हें लेते हुए एक्सर्साइज़ भी करेंगे तो आपको और तेजी से नतीजे मिलेंगे।
  2. खास तरह का खान-पान लें। अपनी एक्सर्साइज़ को और असरदार बनाने के लिए सुनिश्चित कर लें कि आपकी डाइट में प्रचुर मात्रा में मछली, पीले और नारंगी फल, पतले माँस, समुद्री भोजन, बेरियाँ, किशमिश, और सूखे मेवे हों। ये भोजन प्राकृतिक कामोद्दीपक पदार्थ हैं। इनकी मदद से आप एक्सर्साइज़ के बाद उबर सकेंगे और अपनी पार्टनर को बिस्तर में अपनी क्षमता से आश्चर्यचकित कर सकेंगे।

Comments

(0 Comments)

Your email address will not be published. Required fields are marked *