स्तंभन दोष (नपुंसकता)

स्तंभन दोष (नपुंसकता) की समस्या बहुत आम है, खास तौर पर 40 से अधिक उम्र के पुरुषों में। सामान्यतः इसके बारे में चिंता करने की ज़रूरत नहीं है, पर अगर यह बराबर होता रहता है तो आपको डॉक्टर से मिलना चाहिए।

स्तंभन दोष के कारण

अधिकतर पुरुष लिंग खड़ा करने या उसे खड़ा रखने में विफल हो जाते हैं।

ऐसा अक्सर तनाव, थकान, व्यग्रता या अधिक शराब पीने की वजह से होता है, पर इसके बारे में चिंता करने की ज़रूरत नहीं।

अगर ऐसा अक्सर होता है तो यह शारीरिक या भावनात्मक समस्याओं के कारण हो सकता है।

डॉक्टर के साथ मिलने पर क्या होगा?

डॉक्टर या नर्स आपकी जीवनशैली और आपके रिश्तों के बारे में, या आपकी अन्य समस्याओं के बारे में पूछेंगे।

वे बुनियादी स्वास्थ्य परीक्षण करेंगे, जैसे रक्तचाप नापेंगे। वे आपके जननांग भी जाँचेंगे कि कहीं कोई शारीरिक चोट तो नहीं है।

अगर आपके कोई ऐसे लक्षण हैं जैसे अक्सर पेशाब आना, तो डॉक्टर आपके प्रोस्टेट की भी जाँच करेंगे। वे आपके नीचे के भाग (रेक्टल परीक्षण) की भी जाँच कर सकते हैं।

स्तंभन दोष का उपचार उसके कारणों पर निर्भर करेगा

स्तंभन दोष के उपचार अब पहले से कहीं बेहतर हैं और समस्या अक्सर खत्म हो जाती है।

शारीरिक कारण

संभावित कारणउपचार

लिंग की रक्त वाहिकाओं का संकरा होना, रक्तचाप कम करने के लिए दवाइयाँ, कॉलेस्ट्रॉल

उच्च रक्तचाप, उच्च कॉलेस्ट्रॉलकम करने के लिए स्टेटिन,

हारमोन की समस्याहारमोन प्रतिस्थापन – उदाहरण के लिए

टेस्टोस्टेरोन

बताई गई दवाओं के परोक्ष प्रभावडॉक्टर की सलाह से दवाओं में बदलाव

आपसे जीवनशैली संबंधी बदलाव के लिए भी कहा जा सकता है।

Read next  Eating right for exercise

क्या करना चाहिए

  • अगर वज़न अधिक है तो कम कीजिए।
  • धूम्रपान छोड़ दीजिए।
  • स्वस्थ भोजन खाइए।
  • रोज़ाना व्यायाम कीजिए।
  • तनाव और व्यग्रता कम कीजिए।


क्या नहीं करना चाहिए

  • कुछ समय के लिए साइकिल चलाना (अगर आप हफ्ते में तीन घंटे से अधिक साइकिल चलाते हैं)।
  • एक हफ्ते में 14 यूनिट से अधिक शराब पीना।

वियाग्रा का उपयोग केवल डॉक्टर की सलाह से करना चाहिए

सिल्डेनाफ़िल (वियाग्रा के नाम से बेची जाने वाली दवाई) का उपयोग अक्सर डॉक्टर स्तंभन दोष के उपचार के लिए करते हैं।

इसी तरह की और दवाइयाँ भी हैं जैसे टैडलाफ़िल (सिआलिस), वैरडेनाफ़िल (लेविट्रा) और अवानाफ़िल (स्पेड्रा) जो इसकी तरह ही काम करती हैं।

विआग्रा को ऑनलाइन खरीदना

सेक्सुअल एडवाइस एसोसिएशन के पास दवाइयों व अन्य उपचारों समेत इंजेक्शन, प्रत्यारोपण और क्रीम आदि के बारे में पूर्ण सूचना होती है।

क्या वैक्यूम पंप काम करता है?

वैक्यूम पंप से लिंग की ओर रक्त प्रवाह बेहतर हो जाता है, जिससे लिंग खड़ा होने लगता है। अधिकतर पुरुषों के लिए यह काम करता है और दवाई माकूल न होने पर इसका इस्तेमाल किया जा सकता है।

ये राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवाओं में हमेशा उपलब्ध नहीं होते हैं। अपने डॉक्टर से बात कीजिए कि इन्हें कहाँ से प्राप्त किया जा सकता है।

भावनात्मक (मनोवैज्ञानिक) समस्याएँ

अगर कभी-कभी लिंग खड़े होने में आपको दिक्कत होती है तो यह भावनात्मक समस्या की वजह से हो सकता है – उदाहरण के लिए, अगर सुबह के समय आपका लिंग खड़ा हो जाता है पर यौन प्रक्रिया के दौरान दिक्कत होती है।

व्यग्रता और अवसाद का उपचार परामर्श और संज्ञानात्मक व्यवहार चिकित्सा (सीबीटी) द्वारा किया जा सकता है।

Read next  अपने लिंग का साइज़ ठीक से कैसे मापा जाए?

आपका डॉक्टर आपको यौन चिकित्सा की सलाह दे सकता है, या तो बस सेक्स थेरेपी या किसी और मनो-चिकित्सा के साथ मिलाकर।

राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवाओं में इन सेवाओं के लिए कभी कभी बहुत इंतज़ार करना पड़ता है।

आप किसी डॉक्टर को निजी रूप से देखने के लिए भी भुगतान कर सकते हैं।

निजी सलाहकार या सेक्स थेरेपी डॉक्टर की तलाश

सलाहकार और मनोचिकित्सक को

  • ब्रिटिश एसोसिएशन ऑफ़ काउंसलिंग एंड साइकोथेरेपी का सदस्य होना चाहिए।
  • कॉलेज ऑफ़ सेक्सुअल एंड रिलेशनशिप थेरेपिस्ट (कोस्र्ट)
  • इंस्टीट्यूट ऑफ़ साइकोसेक्सुअल मेडीसिन का सदस्य होना चाहिए

यौन विज्ञानी को:

रिलेट भी शुल्क के साथ यौन चिकित्सा मुहैया करते हैं।

सेक्सुअल एडवाइस एसोसिएशन में भी सलाह और मदद मौजूद होती है।

हमारे पाठकों के लिए फास्ट शिपिंग ऑफर:

  • पहला-दूसरा हफ्ता:
  • आपका खड़ापन लंबे समय तक चलेगा और उसकी सख्ती भी बढ़ जाएगी लिंग की संवेदना दो गुना बढ़ जाएगी पहले बदलाव लिंग की लंबाई 1.5 सेमी बढ़ जाने के साथ दिखेंगे1
  • दूसरा-तीसरा हफ़्ता:
  • आपका लिंग बड़ा दिखने लगेगा और उसका शेप भी सटीक हो जाएगा संभोग की अवधि 70% बढ़ जाएगी!2
  • चौथा हफ्ता और इसके बाद:
  • आपका लिंग 4 सेमी लंबा हो जाएगा! सेक्स की गुणवत्ता काफी अच्छी हो जाएगी और संभोग में चरम सुख जल्दी मिलेगा तथा 5-7 मिनट तक चलेगा!

Comments

(0 Comments)

Your email address will not be published. Required fields are marked *

  • Lucknow
  • Indore
  • New Delhi
  • Ahmedabad
  • Jaipur
  • Pune
  • Patna
  • Agra
  • Mumbai
  • Chandigarh
  • Bengaluru
  • Kolkata
  • Hyderabad
  • Chennai
  • Guwahati
  • Bhopal
  • Sonipat
  • Shimla
  • Bhubaneswar
  • Coimbatore
  • Gurgaon
  • Ludhiana
  • Jammu
  • Durgapur
  • Rohtak
  • Panipat
  • Kochi
  • Kozhikode
  • Dehradun
  • Ghaziabad
  • Kanpur
  • Noida
  • Meerut
  • Siliguri
  • Anantapur
  • Jamshedpur
  • Surat
  • Vadodara
  • Srinagar
  • Belgaum
  • Shivamogga
  • Kota
  • Allahabad
  • Moradabad
  • Ranchi
  • Raipur
  • Bhilai
  • Kalyan
  • Thane
  • Navi Mumbai