पुरुषों हेतु संभोग का समय बढ़ाने की 19 तकनीकें

 

कुछ लोगों के लिए यह विषय दुखती राग हो सकता है लेकिन इस पर चर्चा करना जरूरी है। आज हम विस्तार से जानेंगे कि पुरुष संभोग का समय कैसे बढ़ा सकते हैं।

यदि सेक्स में आधे मौकों से ज़्यादा बार आपकी पार्टनर के संतुष्ट होने से पहले ही आपका झड़ जाता है तो इस समस्या को हल कर लेना ही ठीक रहेगा।

 

यह समस्या कितने प्रतिशत पुरुषों को परेशान करती है?

आंकड़े दर्शाते हैं कि जोड़ों में शीघ्रपतन एक बहुत आम समस्या है। आंकड़ों के अनुसार:

20-40% पुरुषों को शीघ्रपतन की शिकायत होती है।

75% पुरुष चाहते हैं कि वे बिस्तर पर और देर तक टिक सकें।

एक सामान्य पुरुष बिस्तर पर कितनी देर तक टिका रहता है?

आँकड़े

लिंग के अंदर जाने से लेकर पतन होने के समय को संभोग का औसत समय कहते हैं और इसमें संभोग से पहले के सहलाने वगैरह को शामिल नहीं किया जाता।

  • सेक्स की अवधि आंकड़ों के स्त्रोत के आधार पर काफी भिन्न हो सकती है। दुनिया भर के 500 जोड़ों पर किए गए आज तक के सबसे शुद्ध आंकड़ों वाले 2017 के सर्वे के अनुसार, औसत समय 5.4 मिनट है।
  • कभी-कभी ऐसे दिन भी होते हैं जब पुरुष ठीक से प्रदर्शन नहीं कर पाते। कभी-कभी तो 75% पुरुष लिंग अंदर जाने के 2 मिनट से भी पहले झड़ जाते हैं।

आपको आखिर कितना समय चाहिए?

 

ऐसा माना जाता है कि एक औरत को पूरा संतुष्ट होने के लिए कम से कम 20-30 मिनट चाहिए होते हैं। लेकिन यह कोई पत्थर की लकीर नहीं है और प्रेमी के कौशल और औरत के मूड के अनुसार 2 मिनट भी काफी हो सकते हैं।

औरत को हर बार पूरा सुख देना किस्मत की बात नहीं होती।

इसलिए यह बहुत आवश्यक है कि आपका अपने शरीर पर पूरा नियंत्रण हो।

आदर्श रूप से पुरुष परिस्थिति के आधार पर अपनी क्षमताओं और संवेदनाओं को नियंत्रित कर सकता है। दूसरे शब्दों में कहें तो वह तेज और देर तक चलने वाला सेक्स करने में सक्षम होता है।

यह कब एक बड़ी समस्या बन जाता है।

  • जब 2 मिनट से पहले शीघ्रपतन हो जाता है।
  • जब औरत को संतुष्टि नहीं मिलती।
  • जब पार्टनर अपनी बॉडी को कंट्रोल नहीं कर पाता तो रिश्ते में समस्याएँ आने लगती हैं।

कारण

  • रोज़मर्रा के जीवन में न्यूरोसिस और तनाव;
  • पूर्वाग्रह और मान्यता कि “सेक्स अनैतिक और खराब चीज है”;
  • लंबे समय तक सेक्स न करना;
  • कामेच्छा कम हो जाना;
  • नए रिश्ते;
  • रिश्तों में खटास या झगड़े;
  • युवावस्था में अपनी इच्छाओं को दबाना;
  • लिंग की अत्यधिक संवेदनशीलता;
  • अपनी पार्टनर को संतुष्ट न कर पाने का डर;
  • रीढ़ की हड्डी में चोट;
  • निष्क्रिय जीवनशैली;
  • धूम्रपान;
  • ज़्यादा शराब पीना।
Read next  एक्सर्साइज़ करके अपना सेक्स प्रदर्शन कैसे बढ़ाएँ?

चलिए अब सेक्स की अवधि बढ़ाने के 18 सबसे अच्छे तरीकों का विश्लेषण करते हैं।

समस्या हल करने के लिए 18 तकनीकें

1. फोरप्ले पर ज़्यादा ध्यान दें

किसने कहा कि सेक्स का अर्थ सिर्फ योनि में लिंग का प्रवेश ही होता है? लड़की को सहलाकर उसके दूसरे अंगों पर ध्यान देने से उसे बहुत मजा आता है। नारी शरीर की सभी जगहों पर ध्यान दें और उसे हर जगह छूएँ। उसे ऐसा बहुत अच्छा लगेगा।

हाँ, कामुक जगहें निजी होती हैं। जिस जगह पर एक लड़की को अच्छा लगता है, हो सकता है दूसरी को पसंद न आए।

लेकिन यदि आपको खास जगहों के बारे में जानना है तो सेक्सोलॉजिस्ट निम्नलिखित लिस्ट बताते हैं:

  • होंठ
  • गला
  • जाँघ और नितंब
  • पीठ
  • सीना
  • जननांग

आप क्या करते हैं यह आप और आपकी क्षमताओ पर निर्भर होता है लेकिन आप अपनी पार्टनर से पूछ सकते हैं कि उसे क्या पसंद है।

यदि आप लड़की के दूसरे अंगों पर ध्यान देकर उसे उत्तेजित कर देते हैं तो हो सकता है दो मिनट प्रवेश कराने से ही उसे चरम सुख मिल जाए। लेकिन सेक्स की अवधि असल में बढ़ाने के भी तरीके होते हैं।

हमारे पाठकों के लिए फास्ट शिपिंग ऑफर:

  • पहला-दूसरा हफ्ता:
  • आपका खड़ापन लंबे समय तक चलेगा और उसकी सख्ती भी बढ़ जाएगी लिंग की संवेदना दो गुना बढ़ जाएगी पहले बदलाव लिंग की लंबाई 1.5 सेमी बढ़ जाने के साथ दिखेंगे1
  • दूसरा-तीसरा हफ़्ता:
  • आपका लिंग बड़ा दिखने लगेगा और उसका शेप भी सटीक हो जाएगा संभोग की अवधि 70% बढ़ जाएगी!2
  • चौथा हफ्ता और इसके बाद:
  • आपका लिंग 4 सेमी लंबा हो जाएगा! सेक्स की गुणवत्ता काफी अच्छी हो जाएगी और संभोग में चरम सुख जल्दी मिलेगा तथा 5-7 मिनट तक चलेगा!

2. केगेल एक्सर्साइज़

खास एक्सर्साइजों की मदद से केगेल मसल ट्रेन करने से कई अंतरंग समस्याएँ सुलझ जाती हैं। इससे आप अपने शरीर को अच्छे से नियंत्रित कर पाते हैं और सेक्स की अवधि भी बढ़ जाती है। केगेल मसल की मदद से ही हम पेशाब कर पाते हैं और इसे ट्रेन करने के लिए आप पेशाब करते समय इसे भींच कर छोड़ सकते हैं। आप जब भी पेशाब जाएँ, धार के बीच में ही रोककर दोबारा शुरू करने की कोशिश करें।

3. अपनी साँस पर ध्यान दें

अपनी साँस को अच्छे से कंट्रोल करने से आप बिस्तर पर लंबे चल सकेंगे। एक गहरी साँस लें, जितनी आम तौर पर लेते हैं, उससे दो गुना लंबी लें, रुकें, और इसके बाद ही उसे पूरा बाहर छोड़ें। यदि आप अपनी साँस कंट्रोल कर लेंगे तो आपका जल्दी नहीं झड़ेगा।

Read next  How to prepare for a workout correctly

4. रुकें और इंतज़ार करें

जब आपको लगता है कि आप चरम सुख पर पहुँचने वाले हैं तो रुकें और एहसास के चले जाने का इंतज़ार करें। इससे आपको सेक्स जारी रख पाएंगे। यदि एहसास न जाए तो पार्टनर को थोड़ी देर छोड़कर इंतज़ार करना पड़ सकता है।

5. बदल-बदल कर हल्के और गहरे झटके मारें

इस तरीके में आप एक बार कम और हल्का झटका और उसके बाद धीमा और गहरा झटका मारते हैं। इनका क्रम अलग-अलग हो सकता है। उदाहरण के लिए आप एक बार लंबा और धीमा झटका मारें, इसके बाद चार बार छोटे-छोटे तेज झटके मारें। इसके बाद 2 गहरे और 3 हल्के आदि।

6. अंडकोष खींचने की तकनीक

हमारी प्राकृतिक प्रक्रियाओं से अंडकोष स्खलन के पहले शरीर के पास आ जाते हैं। आप अपने अंडकोषों को शरीर से हल्के से दूर खींचकर शरीर को यह संकेत दे सकते हैं कि अभी स्खलन का समय नहीं हुआ है। बस इन्हें ऊपर से पकड़ कर धीरे-धीरे नीचे खींच लें।

7. 1000 झटके तकनीक

सेक्स के पहले तय कर लें कि आप खत्म होने के पहले 1000 झटके देंगे। यदि आपको लगता है कि आप झड़ना नहीं रोक सकेंगे तो गिनती करें कि आपने कितने झटके मार लिए हैं। यदि जरूरी हो तो रुकें और झड़ने के एहसास के चले जाने का इंतज़ार करें और अपनी पार्टनर की बॉडी पर ध्यान केन्द्रित करें। जब एहसास चल जाए तो फिर करने लगें।

8. दूसरी बार सेक्स करें

यदि आपके पास शक्ति और समय हो तो दूसरी बार से करें। दूसरी बार का सेक्स आम तौर पर पहली बार से ज़्यादा चलता है इसलिए आप इससे ज़्यादा मजा ले सकते हैं।

9. ऐसी पोजीशन चुनें जिससे शरीर पर ज़्यादा लोड न पड़े

सेक्स के दौरान अपने पेट और नितंबों को टाइट करने से जल्दी झड़ जाता है। अपने शरीर को पूरा रिलैक्स करने की कोशिश करें, खासकर श्रोणि, पेट और यहाँ तक कि हाथ भी। इन पोजों में बॉडी सबसे कम तनाव में होती है: औरत के ऊपर होने पर, साइड में लेट कर करने से, घुटनों और कोहनियों के बल करने से।

10. दवाएँ

आम तौर पर शीघ्रपतन के लिए एंटी-डिप्रेसेंट दिए जाते हैं। मूत्र-रोग विशेषज्ञ दवाई का कोर्स लिखने के पहले कई टेस्ट करवाते हैं। खुद अपना इलाज करने से मरीज को साइड-इफेक्ट हो सकते हैं जिसमें स्तंभन का कमजोर होना भी शामिल है। इलाज का एक और विकल्प है नैचुरल फूड सप्लीमेंट्स जैसे Hammer of Thor लेना। इन नुस्खों से व्यक्ति की पूरी सेक्स प्रक्रिया सुधार जाती है और संभोग लंबा चलता है।

Read next  घर पर लिंग का आकार कैसे बढ़ाया जाए। लिंग वृद्धि का सबसे प्रभावी तरीका

11. औरत के शरीर को न घूरें

पुरुषों को सेक्स के समय औरत के शरीर को निहारना अच्छा लगता है। लेकिन ऐसा करने से आपकी उत्तेजना बढ़ती है और सेक्स को कंट्रोल करना मुश्किल हो जाता है। इसलिए या तो दूसरी ओर देखें, या अपनी आँखें बंद कर लें, या बस घूरना बंद कर दें।

12. अपना ध्यान दूसरी चीजों पर लगाएँ

ऐसी चीजों के बारे में सोचें जो सेक्स से संबन्धित नहीं हैं, लेकिन ऐसा जरूरत से ज़्यादा न करें नहीं तो आप अपना स्तंभन खो बैठेंगे।

13. जिम जरूर जाएँ

निष्क्रिय जीवनशैली अच्छे सेक्स की दुश्मन होती है। योग करें, दौड़ें, उठक-बैठक करें और जिम में दूसरी एक्सर्साइज़ करें।

14. उपयोगी भोजन

  • बटेर के अंडे (अमीनो एसिड और विटामिन);
  • पतली सफ़ेद मछली (प्रोटीन और फोस्फोरस)
  • ब्रोकोली, पत्तागोभी, पार्स्ले (विटामिन सी और ज़िंक);
  • कीवी और खट्टे फल (विटामिन सी)।

वसा वाले भोजनों और शराब का त्याग कर दें। सही खान-पान से संभोग का समय बढ़ाने में मदद मिलती है और बिस्तर में आप लंबे टिक पाते हैं।

15. परंपरागत दवाएँ

आप निम्नलिखित पुराने तरीके आजमा सकते हैं:

  • शाहबालूत की छाल का काढ़ा;
  • रसभरी और पत्तियाँ;
  • गेहूँ के तेल की भाप लेना;
  • कॉर्नफ्लावर के फूलों की चाय पीना।

16. सुरक्षित सेक्स के प्रोडक्ट इस्तेमाल करें

हमेशा कंडोम इस्तेमाल करें। कुछ कंडोम ऐसे भी होते हैं जिनके अंदरूनी हिस्सों में डिज़ाइन होती है और चरम सुख का एहसास होता है। कुछ कंडोम मोटी रबड़ के बने होते हैं।

17. स्थिर रिश्ता बनाएँ

बार-बार पार्टनर बदलने से लगातार और अनावश्यक तनाव बना रहता है। स्थिर पार्टनर होने से आप नाजुक मुद्दों पर खुलकर चर्चा कर सकते हैं और साथ मिलकर हल ढूँढ सकते हैं।

18. ऑपरेशन

यह उम्मीद की आखिरी किरण होती है लेकिन कुछ और काम न आए तो यह भी एक तरीका होता है। ऑपरेशन से लिंग-मुंड की नर्व्स आंशिक रूप से कम कर दी जाती हैं जिससे संवेदनशीलता कम हो जाती है।

Comments

(0 Comments)

Your email address will not be published. Required fields are marked *

  • Lucknow
  • Indore
  • New Delhi
  • Ahmedabad
  • Jaipur
  • Pune
  • Patna
  • Agra
  • Mumbai
  • Chandigarh
  • Bengaluru
  • Kolkata
  • Hyderabad
  • Chennai
  • Guwahati
  • Bhopal
  • Sonipat
  • Shimla
  • Bhubaneswar
  • Coimbatore
  • Gurgaon
  • Ludhiana
  • Jammu
  • Durgapur
  • Rohtak
  • Panipat
  • Kochi
  • Kozhikode
  • Dehradun
  • Ghaziabad
  • Kanpur
  • Noida
  • Meerut
  • Siliguri
  • Anantapur
  • Jamshedpur
  • Surat
  • Vadodara
  • Srinagar
  • Belgaum
  • Shivamogga
  • Kota
  • Allahabad
  • Moradabad
  • Ranchi
  • Raipur
  • Bhilai
  • Kalyan
  • Thane
  • Navi Mumbai